Sunday, March 27, 2011

प्रेमिका संवाद -5 (अंतिम किस्‍त )

प्रेमिका संवाद -5

अब तक आपने पढ़ा
प्रेमिका संवाद -1 प्रेमिका संवाद -2 प्रेमिका संवाद - 3 प्रेमिका संवाद - 4

अब आगे-

प्रेमाशिष का मुँह खुल गया। चेहरे पर बेवकूफों सा भाव लिये वह सरला की ओर देखने लगा।

'प्रेम,' सरला उसी रौ में कहती गई, 'किसी भी व्यक्ति में कम से कम थोड़ा तो आत्मसंयम होना चाहिए। जिस लड़की को अभी तुम अपने जाल में फाँस रहे थे , मैंने सुना है कि उसकी सगाई हो चुकी है। मानवता के नाते थोेड़ी तो मानवता दिखाओ। दूसरों की मँगेतरों को तो छोड़ दो।'

प्रेमाशिष के चेहरे के भावों में थोड़ा परिवर्तन हुआ। वह और भी अधिक बेवकूफ लगने लगा।

सरला ने अपना कर्तव्य समझ कर इतना कह तो दिया,पर यह उसके लिये बहुत कष्टदायक सिद्ध हुआ। प्रेम को देख कर, उसके सम्मुख खड़े हो कर बातें करते समय उसका सारा संयम रेत की दीवार की तरह ढहने लगा। बड़ी कठिनाई से उसने अपने को सँभाला। स्वयं को संयत करने के लिये वह बाथरूम की ओर चली गई।

उसे हर हाल में अपने को सँभालना होगा। अभी तो लंबा जीवन उसके सामने है। जीवन के सूखे और कंटकाकीर्ण पथ में ऐसे झटके, अब लगता है मील के पत्थर की तरह आते रहेंगे। उसे सदा सचेत रहना पड़ेगा कि कभी जब प्रेम पास हो तो वह किसी भी क्षणिक कमजोरीवश कही ऐसा न कर दे जैसा उसने नहीं करने का प्रण लिया है। जानबूझ कर तो मक्खी नहीं निगली जाती। फिर उसका आत्मसम्मान भी तो है।

उधर प्रेमाशिष ने मुँह में रखे आलू दम के टुकड़े को जैसे-तैसे उदर में पहुँचाया। उस आलू में अब कोई दम न था। विनोद ने मदन को देखा तो वह एक गिलास पानी ले कर उसके पास पहुँच गया। उसने कहा,

'लो, यह पानी पी लो। ठीक हो जायेगा।'

'काश, हमारी सभी समस्याएँ पानी पीने से ठीक हो जातीं!' प्रेमाशिष ने सोचा। पर उसके मुँह से निकला, 'आँ...।'

'मैं तुमको वहाँ से देख रहा था। तुम्हारा चेहरा देख कर समझ गया कि तुम्हारे गले में कुछ अटक गया है।' विनोद ने कहा।

'आँ...गाँ...।' प्रेमाशिष ने कहा।

कहा जा चुका है कि टीले वाला मकान पार्क का सबसे बड़ा मकान है। उसमें कमरे ही कमरे हैं। नया आदमी तो इन कमरों की भूलभुलैया में भटक कर रह जाय। घर की मालकिन की कृपा से सरला बाथरूम तक पहुँच गई थी। जब वह निकली तो वह अपने हिसाब से उसी ओर बढ़ी जहाँ पार्टी चल रही थी। पर पहुँची एक बड़े लंबे चौड़े गलियारे में, जिसके दोनों ओर पर्दे लगे दरवाजे थे। कुछ देर तो वह पशोपेश में रही कि किस पर्दे को हटा कर अंदर जाए। स्थिति ऐसी थी कि देवकीनंदन खत्री जी होते उसकी जगह, तो वे भी सिर खुजलाने लगते। फिर जो दरवाजा पास था उसी का पर्दा हटा कर वह अंदर घुस गई। यह कोई और ही कमरा था। इस कमरे में मदन एक सोफे में धँसा सिगरेट पी रहा था। संयोग से मदन का मुँह दूसरी ओर था। वह उल्टे पाँव वापस लौट ही रही थी कि दूसरे दरवाजे से शीला कमरे में आई और मदन को संबोधित कर कहने लगी, 'लो तुम यहाँ छिपे हो। चलो, चलते हैं।'

'तुम जाओ। मैं अभी बैठूँगा। आज छुट्टी है, फिर प्रेम भी साथ में है।' मदन ने कहा।

'तुम्हारा दोस्त प्रेम बहुत दुखी व्यक्ति है।' शीला ने कहा। 'वह अभी तक सरला से प्यार करता है।'

'मुझे मालूम है।' मदन ने कहा। 'ऐसे में कोई कुछ नहीं कर सकता है। कुछ मामले आदमी को स्वयं सुलझाने पड़ते हैं।'

'मदन, अभी मेरी बहुत देर तक प्रेम से बातचीत हुई। उसने टीक से तो कुछ नहीं बताया, पर मुझे लगता है कि सरला गलती कर रही है। उसे यदि अंदाज हो जाय कि प्रेम उसे प्रेम करता है तो शायद दो बिछड़े मिल जाएँ।' सरला ने कहा।

पर्दे के पीछे खड़ी सरला ने सोचा, 'तो वह शीला के संबंध में गलती कर रही थी शायद, क्योंकि शीला का मँगेतर प्रेमाशिष का ही मित्र मदन लग रहा था। पर इससे क्या अंतर पड़ता है! चंद्रिका, कमला, निशा, विभा, तारा, सुजाता, सब के बारे में तो वह गलती नहीं कर सकती।

'यह मुश्किल है।' मदन ने कहा। 'क्यों कि सरला को विश्वास है कि प्रेम उससे प्रेम करता है।'

'फिर...फिर...'

'उसे यह भी विश्वास है कि प्रेम सरला के साथ-साथ शहर की उन सभी लड़कियों को प्यार करता है जो अविवाहित हैं।'

'ऐसा कैसे हो सकता है?' शीला ने पूछा।

'सरला ऐसा ही सोचती है। सरला क्या, प्रेम को जानने वाले सभी यही सोचेंगे। क्यों कि उसका पिछला रिकार्ड ही ऐसा है।' मदन ने कहा।

'मदन, तुम अपने मित्र को अधिक जानते हो। पर मुझे तो लगता है कि प्रेम सरला से ही प्रेम करता है। यदि ऐसा है तो पहले की लड़कियों से छेड़छाड़ कोई महत्व नहीं रखती।' शीला न कहा।

क्या सचमुच ऐसा संभव है? सरला सोचने लगी। पर वह अपने विचारों में कायम नहीं रह पायी। कोई खटका हुआ। उसका ध्यान अपनी वर्तमान परिस्थिति पर आ गया। वह वहाँ से हट गयी।

गलियारे के दूसरे छोर पर उसे प्रसाद खड़ा दिखाई पड़ा। उसके खड़े होने का अंदाज बता रहा था कि हम यहाँ यूँ ही खड़े नहीं हैं। उसकी लंबी पतली गर्दन में उसका आवश्यकता से अधिक उभरा हुआ टेंटुआ जिस हिसाब से ऊपर नीचे हो रहा था उससे उसकी मानसिक हलचल का पता चलता था। यदि टेंटुआधारी व्यक्ति के चेहरे से गंभीरता टपक सकती है तो प्रसाद के चेहरे से गंभीरता टपक रही थी।

प्रसाद एक गणितज्ञ था। वह कोई भी समस्या गणित के मॉडल के माध्यम से हल कर सकता था। पर सरला के व्यवहार का वह कोई भी मॉडल नहीं बना पा रहा था। यदि कोई संख्या दो से विभाज्य है, तो है। इसके दो अर्थ नहीं हो सकते। दो और दो का गुणनफल चार ही हो सकता है, कभी चौबीस नहीं। समीकरण के दाहिनी ओर जितनी संख्या है बाईं ओर भी उतनी ही होनी चाहिए। वह बेचारा सरला के साथ अपना कोई समीकरण नहीं बना पा रहा था। विभाजन में शेष बच जा रहा था। गुणनफल शून्य हो जा रहा था। यहाँ तक कि एक और एक मिला कर भी वह अकेला एक ही बच जा रहा था। एक गणितज्ञ के लिए इससे बड़ी व्यथा क्या हो सकती है?

'सरो' उसने पुकारा।

सरला ने अनसुना कर दिया और वह उसके पास से होकर निकलने लगी। अपनी पुकार का कोई असर न पा कर प्रसाद बहुत क्षुब्ध हुआ। इतना कि जितनी देर में आप हलचल कहेंगे उतनी देर में उसका टेंटुआ दो बार ऊपर नीचे हो गया। उसने सरला का रास्ता रोक कर तथा अपनी खनकती आवाज का ट्रेबल बढ़ा कर कहा, 'सरला!'

'क्या है? मुझे अभी परेशान मत करो।' सरला ने कहा।

'तुम्हें मेरी बात सुननी पड़ेगी।' प्रसाद ने कहा।

'देखो प्रसाद, मुझे तुम्हारी कोई बात नहीं सुननी है। जो कहना है बाद में कहना।' सरला ने कहा।

'मैं अभी कहूँगा। मैं और अधिक सहन नहीं कर सकता।'

'क्या सहन नहीं कर सकते?'

'तुम्हारा व्यवहार।'

'तो अच्छा है न। मत सहन करो। मुझसे उलझो ही नहीं।'

बेचारा गणितज्ञ यहीं परास्त हो गया। सरला ने तो बात ही समाप्त कर दी। दूसरी ओर उस प्रेमाशिष के बच्चे को उसने साफ सीधे शब्दों में चेतावनी दी थी, पर उसका भी कोई असर नहीं हुआ। जो हो इस बार वह हार नहीं मानेगा। फैसला करके ही रहेगा, भले ही दशमलव के आवर्तक अंक की भाँति उसे लगे ही क्यों न रहना पड़े।

'देखो सरो,' उसने समझाते हुए कहा, 'जब तुम शेखर के साथ सिनेमा गई थीं, मैंने कुछ नहीं कहा। जब महेश तुम्हारा मित्र बना मैंने कुछ नहीं कहा। पर अब यह प्रेमाशिष मुझसे सहन नहीं होगा। मेरे मना करने के बाद भी अभी तुम उससे बातें कर रही थीं!'

'तुम होते कौन हो, मुझे मना करने वाले?' गुस्से से तिलमिला कर सरला ने कहा।

'मैं कौन होता हूँ? यानी मैं... मैं बताता हूँ मैं कौन होता हूँ। मैं तुम्हारा होने वाला पति हूँ।' लगभग चिल्लाते हुए प्रसाद ने कहा।

'तुम्हारा इतना साहस?' सरला ने कहा।

'तुम्हारे पिता जी ने मुझे चिट्ठी में ...' प्रसाद कहने लगा पर सरला ने उसकी बात बीच में काट कर कहा,

'तो जा कर पिता जी से कहो। अब फिर कभी मेरा रास्ता रोका तो मैं तुम्हारा टेंटुआ दबा दूँगी।' सरला ने कहा। वह पैर पटक कर वहाँ से जाने के लिए उद्यत हुई तो उसने देखा कि पार्टी के लगभग सभी जन उस गलियारे में उपस्थित थे। ग्लानि से उसकी आँखों में ऑसू छलक आये। वह दौड़ती हुई वहाँ से निकल गई।

उस दिन शाम को पार्क में कोई अपने घर से बाहर नहीं निकला। सभी पत्र लेखन में व्यस्त हो गये थे। यह उस समय की बात है जब मोबाइल फोन, वीडियो चैट आदि भविष्य की बातें थीं। लिहाजा चिट्ठी-डाकिये पर ही जोर था। पर उस दिन तो लगा था कि चिट्ठी लिखने की बीमारी पार्क में संक्रामक रोग की तरह फैल गई है। टीले वाले घर में जो घटना घटी थी, वह पार्क के इतिहास में नई थी। इतनी बड़ी घटना को अपने तक ही सीमित रखना, परले दर्जे की मूर्खता समझ कर सभी पत्र लिख रहे थे। इनमें से कुछ विशेष पत्र उल्लेखनीय हैं।

चंपा के पति ने सरला के पिता जी को लिखा कि आज ऐसी घटना हो गई है, जिसमें प्रसाद ने सरला के साथ दुर्व्यवहार किया। और यह भी लिखा कि उसकी राय में प्रसाद सरला के लिये उपयुक्त नहीं है।

चंपा ने भी सरला के पिता जी को पत्र लिखा। उसने भी अपने शब्दों में घटना का विवरण देते हुए प्रसाद को अनुपयुक्त बताया। उसने यह भी लिखा कि शायद सरला प्रेमाशिष नाम के एक युवक को चाहती है। पर उन दोनों में किसी कारण अनबन है।

प्रसाद ने भी सरला के पिता जी को पत्र लिखा। उसने लिखा कि सरला ने सरेआम उसके साथ दुर्व्यवहार किया है। उसने यह भी लिखा कि जब दोनों परिवारों में यह बात कई सालों से मालूम है कि सरला की शादी प्रसाद के साथ होने वाली है तो सरला का आचरण अच्छा होना चाहिए था। उसने मर्यादा का उल्लंघन करके महेश, शेखर आदि व्यक्तियों के साथ मित्रता बढ़ाई। अति तो उसने प्रेमाशिष नाम के व्यक्ति के साथ की। सब कुछ जानते हुए भी उन दोनों में अँगूठियों का आदान प्रदान हुआ। इतना होने के बावजूद वह सरला से शादी करने को तैयार है बशर्ते वह भविष्य में ऐसी हरकतें न करने का वादा करे।

प्रेमाशिष ने सरला को पत्र लिखा। उसने लिखा कि वह यानी प्रेमाशिष समझ सकता है कि आज की घटना से उसे यानी सरला को कितना कष्ट पहुँचा होगा। उसे यानी प्रेमाशिष को यह जान कर प्रसन्नता हुई कि उसके यानी सरला के और प्रसाद के बीच कुछ नहीं है। वह प्रसाद की बात पर कुछ टिप्पणी नहीं करना चाहता है, परन्तु यह जान कर उसे आश्चर्य अवश्य हुआ कि सरला के जीवन में उसके यानी प्रेमाशिष के आने के पहले शेखर और महेश नाम के व्यक्ति आ चुके हैं। यह बात उसे अवश्य आश्चर्य में डालती है कि अपने भूतकाल में न झाँकते हुए वह यानी सरला, कैसे प्रेमाशिष के भूतकाल में झाँक कर उसे दोषी ठहरा सकती है। उसे विश्वास है कि अभी शेखर या महेश का महत्व कुछ भी नहीं है। वह समझ सकता है, पर सरला ऐसी समझदार लड़की यह समझाने पर भी क्यों नहीं समझती कि निशा या तारा वाले संबंधों में न कभी दम था और न रहेगा। इस जीवन की उसकी एक ही चाहत है और वह है सदानंदजी की छोटी लड़की, सरला। उसके यानी प्रेमाशिष के इतना लिखने के बावजूद वह यानी सरला अड़ियल टट्टू की तरह अपनी बेवकूफी पर अड़ी रहे तो वह और कुछ नहीं कर सकता है। बस, अपना बचा खुचा जीवन उसी की यानी सरला की याद में बिता देगा।

सरला के पिता जी समझदार इनसान थे। उन्होंने दुनिया देख रखी थी। उन सब पत्रों से जो उनके नाम लिखे गये थे, उन्होने कुछ छाना और कुछ बीना। सरला की माँ से मिलने से पहले का अपना जामाना याद किया। प्रेमाशिष के संबंध में छानबीन की। पूरी तरह से लैस हो कर वे पार्क पहुँचे। उन्होंने चंपा के घर में एक विशाल आयोजन किया और प्रेम और सरला की सगाई की घोषणा कर दी।

इस बीच सरला ने कई बार प्रेम से मिलना चाहा था, पर हर बार झिझक का रुक गई थी। उसके पिताजी ने सब राहें आसान कर दी
थीं, उसके लिये भी और प्रेमाशिष के लिये भी।

यह कहना गलत होगा कि प्रेम पर उसका शक जाता रहा। हाँ, शक के शोलों को समझदारी की राख ने अच्छी तरह ढक लिया था। फिर प्यार तो था ही।

समयोपरांत दोनों की शादी हो गई। मदन और प्रेम का साझेदारी वाला व्यापार भी चल निकला। प्रेम ने वहीं पार्क में घर बना लिया। आजकल के मापदण्डों के विपरीत सरला और शीला में बहुत घनिष्ठता हो गई। दोनों परिवार सुखपूर्वक रहने लगे।





1 2 3 4
समाप्त

4 comments:

pramod lohia said...

excellent writeup. very professional and gripping.

Laxmi N. Gupta said...

मथुरा जी,

बहुत सुन्दर कहानी है। कुछ नई उपमायें हैं जैसे, "कछुए के कूबड़ जैसा टीला" और "दशमलव के आवर्तक अंक की तरह लगे रहना।" सरल प्रवाहपूर्ण भाषा में लिखी यह कहानी बहुत मनोरंजक लगी। आजकल लोग ऐसा गद्य लिखते हैं जिसमें अंग्रेज़ी के शब्दों का अनावश्यक प्रयोग होता है। मुझे खुशी है कि आप ऐसा नहीं लिखते हैं। एक सफल लेखन पर बधाई।

Udan Tashtari said...

बेहतरीन/ प्रवाहमयी!!

India Darpan said...

बहुत ही बेहतरीन और प्रशंसनीय प्रस्तुति....


इंडिया दर्पण
की ओर से शुभकामनाएँ।